पहले बात तो सुन लो भाई
पहले बात तो सुन लो भाई

पहले बात तो सुन लो भाई

0

संबित पात्रा अपने घर पहुंचे तो नौकर ने कहा :- मालिक वो tube-light फ्यूज…
संबित (उसकी बात बीच में ही काटते हुए ):-. सबसे पहले तो मैं आपको नमस्कार कहना चाहूँगा। आप हमारे बहुत अच्छे नौकर हैं और अपनी जिम्मेवारी का बहुत ही अच्छी तरह से वहन कर रहे हैं … कृपा मुझे पांच मिनट समय दीजिये, अपनी बात रखने का। मैं आपकी हर बात का जवाब दूँगा।

… आप बात कर रहे हैं tubelight फ्लॉप होने की … । इससे पहले कोई फिल्म फ्लॉप नही हुई है क्या? …. मोदी के दौर में tubelight फ्लॉप हुई तो लगे सवाल करने  …। आप तब कहाँ थे जब कांग्रेस के समय में ‘मेरा नाम जोकर’ को लोगों ने नकार दिया था। ..बोनी कपूर की रूप की रानी चोरों का राजा फ्लॉप हुई थी। … राम गोपाल वर्मा की ‘आग’ बुझ गई थी ….शाहरुख की ‘रा वन’ पिट गई थी।… तब कभी आपने इटली वाली मैया से पूछा था कि कांग्रेस के राज में इतनी बड़ी फिल्‍में फ्लॉप हुई हैं। अरे उनकी तो खुद के देश के नाम की फिल्म ‘इटालियन जॉब’ की रीमेक अब्बास मस्तान की ‘प्लेयर’ पीट गई थी ….नौकर — सा’ब … वो मैं कह रहा था… 

संबित– नहीं, नहीं मुझे बोलने दीजिये।… जब आप बोल रहे थे तो मैं बीच में नहीं बोल रहा था … अब आप मुझे एक मिनट दें। मुझे अपनी बात पूरी करने दें … अगर आज आप tube-light के फ्लॉप होने की बात कर रहे हो तो आज़ादी के बाद से अब तक हर फ्लॉप फिल्म का हिसाब लिया जाएगा …. अरे आप किस मुँह से सिनेमा की बात करते हैं … इमरजेंसी में आपने तो गुलजार की ‘आंधी’ पर सिर्फ इसलिए रोक लगा दी थी, क्योंकि सुचित्रा सेन का गेटअप इंदिरा से मिलता था और किशोर के गाने आकाशवाणी पर इसलिए नहीं बजने दिए गए, क्योंकि उन्होंने संजय गांधी की पार्टी में गाने से मना कर दिया था और आज आपको tube-light याद आ गई …आ हा हा हा

नौकर :- सा’ब मैं ये कह रहा था की बेडरूम की tube-light फ्यूज हो गई है। पैसे दे दीजिए नई ले आता हूँ।

(कश्‍यप संजय की फेसबुक वॉल से)

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in