दुर्योधन की अरेंज मैरिज नहीं थी, वह
दुर्योधन की अरेंज मैरिज नहीं थी, वह

दुर्योधन की अरेंज मैरिज नहीं थी, वह भानुमति को किडनैप कर ले गया था

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स

दुर्योधन बचपन से ही मनशोख यानी उद्दंड था। बाप जन्‍मजात अंधा था और बेटा उससे जो भी लगाई-बुझाई करता, उसे वह मान लेता था। उसकी मां ने भी आंख पर पट्टी बांध रखी थी, इसलिए लड़का पूरी तरह हाथ से निकल गया। दुर्योधन स्‍वयंवर में गया, वहां लड़की ने जयमाल उसके गले में नहीं डाली तो उसे ही लेकर भाग गया। कर्ण अगर नहीं होता तो लोग उसकी जमकर सुताई करते और खुदागंज पहुंचा देते। महाभारत सिर्फ दुर्योधन की जिद के कारण हुआ, जिसमें धृतराष्‍ट्र के वंश का समूल नाश हो गया।

कर्ण गया तो था परशुराम के पास ब्रह्मास्‍त्र और अन्‍य दिव्‍यास्‍त्र चलाने की ट्रेनिंग लेने, लेकिन दो-दो शाप पाकर हस्तिनापुर लौट आया था और द्रोणाचार्य के ट्रेनिंग स्‍कूल में प्रैक्टिस कर रहा था। थोड़े दिनों बाद ही हस्तिनापुर में सूचना आई कि कलिंग देश के राजा चित्रांगद की बेटी भानुमति का स्‍वयंवर है। महाभारत में कलिंग देश का ही जिक्र है जिसकी राजधानी राजपुर थी। हालां‍कि कुछ लोग कहते हैं कि भानुमति काम्‍बोज के राजा चंद्रवर्मा की बेटी थी। खैर, स्‍वयंवर में कई देशों के राजा आए थे जिनमें शिशुपाल, जरासंध, भीष्‍मक, वक्र, कपोतरोमन, नील, रुक्मी, शृंग, अशोक, सतधनवान आदि प्रमुख थे। दुर्योधन भी कर्ण के साथ पहुंचा था।

स्‍वयंवर शुरू हुआ। भानुमति जयमाल लिए हुए सखी-सहेलियों के साथ मण्‍डप में आई जहां विवाह के इच्‍छुक राजा लाइन से बैठे हुए थे। वह एक-एक के सामने आती, उनको देखती और परिचय तथा कीर्ति सुनकर आगे बढ़ जाती। जब वह दुर्योधन के पास आई तो भाटों ने उसका जमकर बखान किया। लेकिन लड़की आगे बढ़ गई। दुर्योधन से यह तिरस्‍कार सहा नहीं गया। उसने तत्‍काल राजकन्‍या का हाथ पकड़ा और कर्ण के साथ उसे जबरदस्‍ती लेकर जाने लगा। इससे लड़की का पिता और वहां बैठे तमाम राजा भड़क गए और दुर्योधन पर टूट पड़े। तब कर्ण ने अपने मित्र को बचाया।

दुर्योधन भानुमति को लेकर जब हस्तिनापुर पहुंचा तो भीष्‍म पितामह कहने लगे, इस लड़के ने खानदान की नाक कटवा दी। पूरा मान-सम्‍मान मिट्टी में मिला दिया। तब दुर्योधन ने कहा कि आपने भी तो यही किया था। आप भी तो अपने सौतेले भाइयों के लिए अम्‍बा, अम्बिका और अम्‍बालिका को अगवा करके लाए थे। इसके बाद दोनों का विधिवत विवाह कराया गया।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in