'भूतों' से लड़ कर भन्‍ना गए डोनाल्‍ड
'भूतों' से लड़ कर भन्‍ना गए डोनाल्‍ड

‘भूतों’ से लड़ कर भन्‍ना गए डोनाल्‍ड ट्रम्‍प

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स। अमेरिका के नवनियुक्‍त राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रम्‍प भन्‍नाए हुए हैं। चुनाव में उन्‍हें हराने के लिए ‘भूतो की फौज’ को उनके खिलाफ मतदान के लिए उतारा गया। लेकिन भूत भी उनका कुछ उखाड़ नहीं पाए। अब ट्रम्‍प भूतों के पीछे पड़ने वाले हैं। अपने खिलाफ षड्यंत्र की ‘बड़ी जांच’ कराने वाले हैं।

दरअसल, ट्रम्‍प को शक है कि नवंबर को हुए चुनाव में मतदाता घोटाला हुआ। इसमें लाखों फर्जी मतदाताओं ने उनके खिलाफ हिलेरी क्लिंटन को वोट दिया। इसलिए हिलेरी कैलिफोर्निया, न्‍यू हैम्‍पशायर और वर्जिनिया में जीत गईं। ट्रम्‍प उसी समय से मीडिया पर भी भड़के हुए हैं, क्‍योंकि इसने फर्जीवाड़े की रिपोर्टिंग नहीं की। लिहाजा वह अपने खिलाफ षड्यंत्र की ‘बड़ी जांच’ कराने वाले हैं।

पढ़ें- ओबामा के फैसलों को पलटने लगे ट्रम्‍प

ट्रम्‍प ने बुधवार को अपना दर्द ट्वीट किया। बोले- इन बोगस मतदाताओं में ऐसे भी हैं जिनके नाम दो राज्‍यों की मतदाता सूची में है। यह तो अवैध है। सूची में मरे हुए लोगों के भी नाम हैं, जिनमें कई बहुत पहले खुदागंज कूच कर चुके हैं। अधिकारी, चुनाव विशेषज्ञ और उनकी पार्टी के नेता भी मानने को राजी नहीं हैं कि अमेरिका में मतदाता धांधली भी हो सकता है। अमेरिकी चुनावों में फर्जी मतदाता का कोई इतिहास नहीं है। यह दुर्लभ मामला है।

पार्टी के लोग भी कह रहे हैं कि जितनी देर में ट्रम्‍प भाई साहब को समझाएंगे, उतनी देर में इंडिया आकर फर्जीवाड़े का कॉन्‍सेप्‍ट समझ लेंगे। दरअसल, 8 नवंबर को प्रमुख तीन राज्‍यों के चुनाव में हिलेरी ने ट्रम्‍प को 29 लाख वोटों से हरा दिया था। इसी के बाद किसी ने उनसे कह दिया कि साहब दाल में कुछ काला है। तभी से वह इस बात को पकड़ कर बैठे हैं कि चुनाव में धांधली हुई। लोग समझा कर थक गए कि 50 राज्‍यों और कोलंबिया जिले से इस तरह की कोई रिपोर्ट नहीं है, लेकिन वह मान ही नहीं रहे हैं। यह भी कहा गया कि पूर्व राष्‍ट्रपति जॉर्ज डब्‍ल्‍यू बुश को भी इसी तरह का शक था। लेकिन पांच साल तक चली जांच में कोई गड़बड़ी नहीं मिली।

वास्‍तव में कुछ लोग ट्रम्‍प की जीत को ही अवैध बता रहे हैं। कह रहे हैं कि उनके इशारे पर ही वैध मतदाताओं को वोट नहीं डालने दिया गया। रूसियों ने उनके इशारे पर ही यह सब किया। अपनी आलोचना से ट्रम्‍प बिदक गए हैं, इसीलिए बड़बड़ाए जा रहे हैं।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in