मायावती ने मुस्लिमों को गद्दार कहा था:
मायावती ने मुस्लिमों को गद्दार कहा था:

मायावती ने मुस्लिमों को गद्दार कहा था: नसीमुद्दीन सिद्दीकी

0

बहुजन समाज पार्टी में कभी नंबर दो की हैसियत रखने वाले नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने बर्खास्तगी के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में नसीमुद्दीन ने आरोप लगाने के साथ ही कई ऑडियो क्लिप भी सुनाए जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि ये आॅडियो टेप प्रमाण हैं कि प्रत्याशियों से वसूली के लिए खुद मायावती ही कहती थीं. जिसका पालन मैं करता था। ऐसे 150 टेप उनके पास और भी हैं।

नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा, ”इसके बाद उन्होंने कहा कि मैं इस बात से सहमत नहीं हूं। इसके बाद उन्होंने कहा कि हमने 1993 में सपा से गठबंधन किया तब, 1996 में कांग्रेस से गठबंधन किया तब भी मुसलमान का वोट नहीं किया। इसके बाद उल्टा सीधा बोलना शुरू कर दिया। उन्होंने अनाप-शनाप बोलते हुए कहा कि मुसलमान गद्दार हैं। दाढ़ी वाले मुसलमान बोलते हुए कहा कि ये कुत्ते मेरे पास आते थे।” नसीमुद्दीन ने कहा कि मायावती ने सिर्फ मुसलमानों को ही नहीं बल्कि धोबी, पासी, कोहार सभी को बुरा भला कहा।

नसीमुद्दीन ने कहा कि मायावती जी ने 2002 के पंजाब और यूपी विधानसभा चुनाव में कांशीराम को बेइज्जत किया और खुद को कांशीराम से ऊपर साबित करने की कोशिश की। मायावती ने कांशीराम के बारे में जो कहा मैंने उसका विरोध किया था। मैंने मायावती को हार के कारणों के बारे में बताया था जिस पर वह नाराज हो गई थीं। यही नहीं मायावती ने मुझसे पैसे की मांग की। पार्टी को 50 करोड़ रुपये की जरूरत है। मैंने कहा कि मैं कहां से लाऊं तो बोलीं अपनी प्रॉपर्टी बेच दो। मैंने कहा कि अगर मैं अपनी प्रॉपर्टी बेच भी दूंगा तो 50 करोड़ का चौथाई भी हो जाए तो बड़ी बात है। मैंने ये भी कहा कि नोटबंदी के बाद अगर प्रॉपर्टी बेचूंगा तो भी कैश नहीं मिलेगा। लेकिन पार्टी हित के लिए मैं ये करने को भी तैयार हूं। इसके बाद मैंने अपने दोस्तों-रिश्तेदारों से कहा कि कुछ करें। पार्टी के लोगों से कहा कि मेरी प्रॉपर्टी बिकवा दो। जब थोड़ा पैसा इकट्ठा हो गया तो मैंने बहनजी को कहा कि पैसा इकट्ठा हो गया है।

 

.

 

 

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in