डाइनिंग रूम सही दिशा में नहीं है तो
डाइनिंग रूम सही दिशा में नहीं है तो

डाइनिंग रूम सही दिशा में नहीं है तो परेशान रहेंगे

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स। जिस तरह घर में पूजा, किचन और स्‍टोर रूम का अपना अलग महत्‍व है, उसी तरह डाइनिंग रूम का भी है। अमूमन हम घर में कहीं भी खाने को बैठ जाते हैं। लेकिन वास्‍तु शास्‍त्र लिहाज से यह अच्‍छा नहीं होता है। भोजन करने की जगह यानी डाइनिंग रूम भी बहुत जरूरी है। मतलब यह कि भोजन ऐसी जगह करना चाहिए जिससे कि परिवार के सदस्‍यों पर इसका सकारात्‍मक और रचनात्‍मक प्रभाव पड़े। अगर आपका घर बड़ा है तब तो अच्‍छा है, लेकिन घर छोटा है तो वास्‍तु के अनुसार बदलाव करके डाइनिंग स्‍पेस बना सकते हैं।

इन बातों का रखें  ध्‍यान

1. डाइनिंग रूम और किचन एक ही फ्लोर पर हो और दोनों एक-दूसरे से लगा हो। अगर दरवाजा नहीं हो तो किचन में खिड़की भी बना सकते हैं ताकि भोजन आदि आसानी ला सकें। लेकिन इसके लिए वास्‍तु विशेषज्ञ से सलाह लें।

2. किचन उत्‍तर-पश्चिम में है तो डाइनिंग रूम घर के पश्चिम दिशा में बनाना सबसे बढि़या रहेगा। पूर्व या उत्‍तर में भी बना सकते हैं, लेकिन यह अपेक्षाकृत बहुत कम फायदेमंद होता है।

3. डाइनिंग एरिया के लिए पश्चिम सबसे उपयुक्‍त दिशा होती है। इसके बाद उत्‍तर या पूर्व दिशा को दूसरी वरीयता दी गई है।





4. इस कमरे का दरवाजा उत्‍तर-पूर्व और उत्‍तर में होने पर हाजमा ठीक रहता है और भोजन अमृत की तरह शरीर को लगता है। दीवारों का रंग गुलाबी या नारंगी हो और उन पर पेंटिंग्‍स लगी हों तो भूख जागृत होती है।

5. डाइनिंग रूम बड़ा और आरामदेह होना चाहिए। साथ ही, कमरा हवादार हो और इसमें रोशनदान बने हों। डाइनिंग टेबल हमेशा कमरे के बीच में और ज्‍यादा से ज्‍यादा दक्षिण-पश्चिम हिससे में रखें।

6. भोजन करते समय परिवार के मुखिया का मुंह पूर्व की तरफ, जबकि परिवार के अन्‍य सदस्‍यों की दिशा पूर्व, उत्‍तर या पश्चिम की ओर होना चाहिए।

7. डाइनिंग रूम के दरवाजे पूर्व, उत्‍तर या पश्चिम दीवारों की ओर रखना सबसे अच्‍छा होता है।

8. डाइनिंग टेबल कमरे के दक्षिण-पश्चिम कोने में हो, लेकिन दीवार से सटा नहीं हो। कुर्सी और दीवार के बीच इतनी जगह हो कि कोई आसानी से निकल सके। अगर जगह की कमी हो तो सिर्फ पश्चिम या दक्षिण दीवार से टेबल को सटाकर रख सकते हैं।

9. पीने का पानी डाइनिंग एरिया के उत्‍तर-पूर्व कोने में और वॉश बेसिन उत्‍तर या पूर्व या उत्‍तर-पश्चिम कोने में लगाएं। जितना संभव हो वॉश बेसिन उत्‍तर-पश्चिम में नहीं लगाना चाहिए।

10. यदि ड्राइंग रूम में ही डाइनिंग स्‍पेस है तो बीच में पर्दा लगाएं या पौधों से इसका सीमांकन कर दें। मतलब यह कि ड्राइंग रूम से अलग करने के बाद डाइनिंग रूम को वास्‍तु के हिसाब से सजाएं। डाइनिंग रूम का माहौल खुशनुमा और सुहावना बनाने ने के लिए प्रकृति की पेंटिंग्‍स या पोस्‍टर लगा सकते हैं।

11. डाइनिंग रूम की दीवारों के लिए सबसे बढि़या रंग गुलाबी, नारंगी, पीला, क्रीम या धुंधला सफेद (off-white) माने जाते हैं। डाइनिंग एरिया के पूर्वी या उत्‍तरी दीवार पर आईना भी लगा सकते हैं।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in