कंडक्टर ने नहीं, स्कूल के ही 11वीं के
कंडक्टर ने नहीं, स्कूल के ही 11वीं के

कंडक्टर ने नहीं, स्कूल के ही 11वीं के छात्र ने मारा : CBI

0

रेयान इंटरनेशनल स्कूल के स्टूडेंट प्रद्युम्न ठाकुर मर्डर केस में ठीक दो महीने बाद नया मोड़ आ गया है। सीबीआई ने बुधवार को बताया कि स्कूल के 11वीं के स्टूडेंट को हिरासत में लिया गया है। सीबीआई के मुताबिक, आरोपी स्टूडेंट ने पेरेंट्स-टीचर मीटिंग (पीटीएम) और एग्जाम टालने के लिए यह मर्डर किया था।

अब तक की जांच में हरियाणा पुलिस ये कह रही थी कि कंडक्टर अशोक ने प्रद्युम्न की हत्या की, लेकिन इसी केस की जांच करने वाली सीबीआई ने नया खुलासा ये कि किया कि हत्या स्कूल के ही 11वीं के छात्र ने की है। सीबीआई ने छात्र को मुख्य आरोपी मानते हुए कल रात गिरफ्तार भी कर लिया और आरोपी छात्र को जुविनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने सीबीआई ने पेश किया क्योंकि उसकी उम्र अभी सिर्फ 16 साल है।

सीबीआई ने दावा किया है कि इस हत्याकांड में गिरफ्तार किए गए ड्राइवर और कंडक्टर का कोई हाथ नहीं है और न यह यौन शोषण का मामला है। वहीं छात्र की गिरफ्तारी की सूचना प्रद्युम्न के परिजनों को भी दे दी गई है। प्रद्युम्न के परिवार के वकील सुशील टेकरीवाल ने कहा- ”हमने जल्द सीबीआई चार्जशीट दायर करने की मांग की है। आशंका है कि इस मामले में कोई गहरी साजिश है। पिंटो परिवार इस साजिश का हिस्सा हो सकते हैं।”

इस केस में स्कूल के बस कंडक्टर अशोक कुमार के अलावा रेयान ग्रुप के दो अफसर रेयान ग्रुप के नॉर्थ जोन हेड फ्रांसिस थॉमस और भोंडसी स्थित स्कूल कोऑर्डिनेटर गिरफ्तार हुए थे। इन अफसरों को जमानत मिल गई थी, लेकिन अशोक अभी भी ज्यूडिशियल कस्टडी में है। सोहना रोड स्थित सदर पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी को भी सस्पेंड किया गया था। रेयान ग्रुप के सीईओ रेयान पिंटो, उनके पिता ऑगस्टीन पिंटो और मां ग्रेस पिंटो ने बॉम्बे हाईकोर्ट, फिर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में पिटीशन दायर करके एंटीसिपेटरी बेल (अग्रिम जमानत) देने की अपील थी। बाद में उन्हें पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने बेल दे दी थी।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in