बरखा सिंह 6 साल के लिए कांग्रेस से बाहर
बरखा सिंह 6 साल के लिए कांग्रेस से बाहर

बरखा सिंह 6 साल के लिए कांग्रेस से बाहर

0

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व पर सवाल उठाने वाली बरखा शुक्ला सिंह को कांग्रेस ने पार्टी से 6 साल के लिए बाहर कर दिया है। उन पर पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगा है।

दिल्ली महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष बरखा सिंह ने राहुल गांधी के कामकाज पर सवाल करते हुए उन्हें नेतृत्व के लिए अक्षम करार दिया था। साथ ही अजय माकन पर बदतमीजी करने का भी आरोप लगाया था। इसके बाद बरखा सिंह ने गुरुवार को महिला कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा था कि वह पार्टी नहीं छोड़ेंगी।

गुरूवार को बरखा ने कहा था कहा, ”मैं पार्टी की सच्ची सैनिक हूं। छोड़कर नहीं जाऊंगी, पार्टी में रहकर लड़ाई लड़ूंगी। अजय माकन ने मेरे साथ बदसलूकी की। शिकायत पर राहुल गांधी ने कोई एक्शन नहीं लिया। आखिर वाइस प्रेसिडेंट पार्टी मेंबर्स से मीटिंग करने में क्यों डरते हैं? राहुल की लीडरशिप में कांग्रेस ने महिलाओं का इस्तेमाल सिर्फ वोट बटोरने के लिए किया।”
बरखा ने आरोप लगाया था कि- ”एमसीडी इलेक्शन के टिकट बंटवारे में महिला वर्कर्स को हाशिए पर रखा गया। कार्यकर्ताओं की आवाज दबाई गई और शिकायतों का मौका नहीं दिया। दिल्ली कांग्रेस के प्रेसिडेंट (माकन) ने अपने घर पर मेरी और कई महिला कार्यकर्ताओं के साथ बदसलूकी की। हमनें इसकी शिकायत राहुल गांधी से की, लेकिन वाइस प्रेसिडेंट ने कोई एक्शन नहीं लिया। यह पार्टी का दोहरा कैरेक्टर है। जब बीजेपी नेता प्रियंका गांधी के लिए गलत शब्दों का इस्तेमाल करते हैं तो कांग्रेस आला कमान चाहते हैं कि महिला कांग्रेस विरोध करे। लेकिन, जब माकन की शिकायत करते हैं तो हमें धमकाया जाता है।”
बरखा ने दावा किया था, ”राहुल पार्टी नेताओं से मुलाकात नहीं करते। उन्होंने कभी पार्टी के इंटरनल इश्यूज पर बात करने की इच्छा नहीं जताई। आखिर वो अपने ही मेंबर्स से मीटिंग करने में क्यों डरते हैं? इसी वजह से कई सीनियर लीडर छोड़कर चले गए। राहुल और माकन के इसी रवैए के चलते 5 डिस्ट्रिक्ट प्रेसिडेंट और 75 ब्लॉक प्रेसिडेंट्स संगठन से इस्तीफा दे चुके हैं।”
Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in