बेरोजगारी के कगार पर पहुंचे 7000 भारतीय
बेरोजगारी के कगार पर पहुंचे 7000 भारतीय

बेरोजगारी के कगार पर पहुंचे 7000 भारतीय अमेरिकी

0

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ओबामा काल के एक एमनेस्टी कार्यक्रम को मंगलवार को रद्द कर दिया।  यह कार्यक्रम अमेरिका में अवैध रूप से बच्चों के रूप में प्रवेश करने वाले प्रवासियों को वर्क परमिट प्रदान करता था।  ट्रंप के इस कदम से 8 लाख ऐसे लोगों पर असर पड़ने की आशंका है जिनके पास वैध दस्तावेज नहीं हैं।  इनमें सात हजार से अधिक भारतीय अमेरिकी भी शामिल हैं।

अमेरिक अटॉर्नी जनरल जेफ सेशंस ने कहा, ‘मैं घोषणा करता हूं कि डीएसीए (डिफर्ड एक्शन फॉर चिल्ड्रन अरायवल) नामक कार्यक्रम जो ओबामा प्रशासन में प्रभाव में आया था, उसे रद्द किया जाता है। ‘ कुछ दिन से इस घोषणा की अपेक्षा की जा रही थी।  इसके बाद देश भर में इसके खिलाफ प्रदर्शन शुरू हो गये।  ट्रंप के फैसले के खिलाफ व्हाइट हाउस के बर सैकड़ों प्रदर्शनकारी एकत्रित हुए।

इस फैसले का तुरंत कोई असर नहीं दिखेगा। गृह विभाग को धीरे-धीरे सबकी राहत खत्म करने को कहा गया है। अब राहत के चाहने वाले अवैध इमिग्रेंट्स डीएसीए के तहत आवेदन नहीं कर पाएंगे। पहले से राहत पा चुके लोगों कीसुविधा जारी रहेगी। परमिट खत्म होने तक वह काम कर सकेंगे। उन्हें मिला संरक्षण अगर अगले साल 5 मार्च से पहले खत्म हो रहा है तो 5 अक्टूबर तक इसे आखिरी बार पुनः जारी  करवा सकेंगे। लेकिन अगर यह 6 मार्च को खत्म हो रहा है तो पुनः जारी  नहीं होगा।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in