मंदसौर में बेकाबू हुआ किसान आंदोलन
मंदसौर में बेकाबू हुआ किसान आंदोलन

मंदसौर में बेकाबू हुआ किसान आंदोलन

0

मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के लगातार छठे दिन भी हिंसा हो रही है। मंदसौर में एक दिन पहले फायरिंग में छह किसानों की मौत हुई थी। इसके बाद गुस्साए किसानों ने बुधवार को जिले के बरखेड़ा पंत में एसपी और कलेक्टर के साथ धक्कामुक्की की। कलेक्टर को सिर पर मारा। उनके कपड़े भी फट गए।

मंदसौर में पुलिस फायरिंग में छह किसानों की मौत के बाद भारतीय किसान मजदूर संघ ने बुधवार को प्रदेश बंद की घोषणा की है। इस दौरान मालवा अंचल के मंदसौर, नीमच, रतलाम, देवास के अलावा राज्य के कई जिलों में व्यापक असर देखने को मिल रहा है। वहीं बारखेड़ा इलाके में पुलिस पर पथराव की भी खबर है। इस बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए इलाके में रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात कर दिया गया। उज्जैन में भी पुलिस पर लोगों ने पथराव किया। 4 जिलों में इंटरनेट पर भी रोक लगा दिया गया है।

इस बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज पीड़ित परिवारों से मिलने मंदसौर जाने वाले थे, लेकिन प्रशासन ने उनके हेलीकॉप्टर को लैंडिंग की इजाजत देने से इनकार कर दिया। इसके बाद अब कांग्रेस नेता उनकी यात्रा के लिए किसी दूसरी व्यवस्था पर विचार कर रहे हैं। वहीं राहुल की इस यात्रा से पहले उनकी करीबी मानी जाने वाली मिनाक्षी नटराजन को पुलिस को हिरासत में ले लिया है।

नीमच में कथित तौर पर किसानों ने पुलिस स्टेशन में आग लगा दी। जबकि, मंदसौर के कायमपुर में एक प्राइवेट बैंक पर हमला बोल दिया और वहां मौजूद एक एटीएम में आग लगाने की कोशिश की। हाटपिपलया और देवास में पुलिस के साथ किसानों की झड़प हुई। उग्र किसानों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की और वहां आगजनी की। वहीं, ट्रेन रोक कर इंजन क्षतिग्रस्त करने की कोशिश की।

कर्ज माफी और दूध के दाम बढ़ाने जैसे मुद्दे पर आंदोलन महाराष्ट्र में 1 जून से शुरू हुआ था। वहां अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है। मध्य प्रदेश के किसानों ने भी कर्ज माफी, मिनिमम सपोर्ट प्राइस, जमीन के बदले मिलने वाले मुआवजे और दूध के रेट को लेकर आंदोलन शुरू किया। शनिवार को इंदौर में यह आंदोलन हिंसक हो गया।
Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in