एक अमेरिकी ने भारतीयों को गोली मारी,
एक अमेरिकी ने भारतीयों को गोली मारी,

एक अमेरिकी ने भारतीयों को गोली मारी, दूसरा देवदूत बना

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स। अमेरिका में एक भारतीय इंजीनियर उग्र राष्‍ट्रवाद का शिकार बन गया। एक अमेरिकी हमलावर ने पब में बैठे दो भारतीयों इंजीनियर सहित तीन लोगों को गोली मारी, जिसमें श्रीनिवास श्रीनिवास कुचिभोतला की मौके पर ही मौत हो गई। एक अन्‍य भारतीय आलोक मदासानी और अमेरिकी इयॉन ग्रिलट खुशकिश्‍मत रहे। हालांकि दोनों गंभीर रूप से घायल हुए हैं। गोलीबारी के बाद हमलावर एडम फरार हो गया था, लेकिन कुछ घंटे बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

श्रीनिवास जीपीएस सिस्‍टम बनाने वाली अमेरिकी कंपनी गार्मिन इंटरनेशनल में काम करते थे। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर इस घटना पर शोक जताया है। उन्‍होंने कहा, अमेरिका में भारतीय दूतावास इस मामले को लेकर सक्रिय है। भारतीय अधिकारी कन्‍सास पहुंच गए हैं। घटना बुधवार रात की है।

हैदराबाद मूल के श्रीनिवास काम खत्‍म करने के बाद कन्‍सास शहर के एक पब में बैठे हुए थे। आलोक और इयॉन भी वहीं थे। इतने में 51 वर्षीय एडम प्‍योरिन्‍टन नामक अमेरिकी GET OUT OF MY COUNTRY! (मेरे देश से दफ़ा हो जाओ!) चिल्‍लाता हुआ आया और तीनों पर ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगा। बताया जा रहा है कि हमलावर अमेरिकी नौसेना का सेवानिवृत्‍त सैनिक है।

दुनियाभर में लोग जहां भारतीय इंजीनियर की हत्या पर अफ़सोस ज़ाहिर कर रहे हैं, वहीं अमेरिकी नागरिक इयॉन की बहादुरी की तारीफ़ भी कर रहे हैं। हमले में घायल इयॉन ने हमलावर को पकड़ने की कोशिश की थी। इयॉन ने कहा कि उन्‍होंने वही किया जो किसी भी इंसान को करना चाहिए। हम सब इंसान हैं। ऐसा मुश्किल वक्त इंसानियत की कड़ी परीक्षा लेता है।





आलोक के बारे में इयॉन ने कहा, “जिनकी जान बची है वे यहां मुझसे मिले। मैंने जो महसूस किया उसे में बता नहीं सकता। ये सबसे महानतम अहसास है। कोई अदृश्य शक्ति उनकी और मेरी रक्षा कर रही थी।” अस्पताल के बिस्तर से दिए वीडियो साक्षात्कार में इयॉन ने कहा, “मैं इस वीकेंड पर मछलियां पकड़ने जाने वाला था, लेकिन अब ऐसा होता दिख नहीं रहा है। मैं ठीक होकर सबसे पहले उस युवक से मिलना चाहूंगा। कल रात की घटना के बाद हम अच्छे दोस्त बन गए हैं।”

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in