यूपी में भाजपा का 14 साल का वनवास खत्‍म
यूपी में भाजपा का 14 साल का वनवास खत्‍म

यूपी में भाजपा का 14 साल का वनवास खत्‍म होगा : मोदी

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स ब्‍यूरो, लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को लखनऊ में परिवर्तन रैली में सपा, बसपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि सूबे में भाजपा का 14 साल का वनवास इस बार खत्‍म हो जाएगा। इन 14 वर्षों में विकास का वनवास हो गया है जिसे सिर्फ भाजपा ही खत्‍म कर सकती है।

मोदी ने कहा, यूपी में 14 साल बाद भी लोग भाजपा सरकार को याद करते हैं और उसके विकास कार्यों को सराहते हैं। लेकिन भाजपा के शासन के साथ ही राज्‍य में विकास कार्य भी ठप हो गया। उन्‍होंने रैली में मौजूद लोगों से अपील की कि यदि हिन्‍दुस्‍तान का भाग्‍य बदलना है तो सबसे पहले यूपी का भाग्‍य बदलना होगा। इसलिए लोग जात-पा से ऊपर उठकर वोट दें। इस बार मुद्दा भाजपा के वनवास का नहीं है, बल्कि विकास के वनवास का है। उन्‍होंने कहा कि आज के जन सैलाब देखने के बाद राजनीतिक विश्‍लेषकों को आकलन करने में मशक्‍कत नहीं करनी पड़ेगी कि विधानसभा चुनाव में जीत किसकी होगी।

अटल, कल्‍याण सिंह याद आए

रैली में उमड़ी भीड़ से उत्‍साहित मोदी ने कहा कि उन्‍होंने ऐसा जन सैलाब कभी नहीं देखा। उन्‍होंने कहा, सुबह 10 बजे से ही रैली स्‍थल पर तस्‍वीरें ट्विटर पर डाली जा रही थीं। भीड़ देखकर मैं हैरान हो गया। मैंने मुख्यमंत्री और अब प्रधान सेवक के रूप में कई रैलियां की हैं, लेकिन लखनऊ की परिवर्तन रैली में मेरे जीवन की सबसे बड़ी रैली है। भाषण में उन्‍होंने कल्‍याण सिंह और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का भी जिक्र किया। मोदी ने कहा, लखनऊ अटल बिहारी वाजपेयी की कर्म भूमि है। उन्‍होंने यहां की धरती के लिए काफी काम किया। आज इस भीड़ को देखकर उन्‍हें खुशी हो रही होगी। कल्‍याण सिंह भी जयपुर के राजभवन में इस कार्यक्रम को देखकर आशीर्वाद दे रहे होंगे।

मैं कहता हूं कालाधन हटाओ, वो कहते हैं मोदी हटाओ

मोदी ने सपा सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि राज्य सरकार विकास के कार्यों का जिम्मा लेने को तैयार नहीं है। उन्‍होंने नोटबंदी, कालाधन पर लोगों से पूछा कि सपा और बसपा को किसी मुद्दे पर एकजुट देखा है। लेकिन एक मुद्दे पर अब दोनों साथ हो गए हैं। मैं कहता हूं कालाधन हटाओ तो वो कहते हैं मोदी को हटाओ। फैसला तो जनता को करना है। बीते ढाई साल में सिर्फ यूपी को ढाई लाख करोड़ दिया गया, लेकिन सपा की प्राथमिकता विकास नहीं है। क्या कारण है कि गन्ना किसानों के पैसे इतने सालों लटके रहे। दलों के बीच राजनीति हो, लेकिन जनता के साथ नहीं।

कोई पैसा बचाने में तो कोई परिवार

मोदी ने बसपा और सपा पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई पैसा बचाने में जुटा है तो कोई परिवार। सिर्फ भाजपा को ही यूपी की फिक्र है। उन्‍होंने बसपा प्रमुख मायावती का नाम लिए बिना कहा कि राजनीति का स्‍तर काफी गिर गया है। आर्थिक कारोबार के लिए तकनीक द्वारा रुपये के लेन-देन के लिए ‘भीम’ नामक मोबाइल एप्लीकेशन शुरू किया गया। इसका नाम भीम नाम इसलिए रखा, क्‍योंकि बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने आर्थिक चिंतन में महारत हासिल की थी। भारत का आर्थिक कारोबार भीम के नाम से चले तो किसी के पेट में चूहे क्यों दौड़ रहे हैं।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in