विजेंदर के नक्‍शे कदम पर हरियाणा के
विजेंदर के नक्‍शे कदम पर हरियाणा के

विजेंदर के नक्‍शे कदम पर हरियाणा के बॉक्‍सर

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स ब्‍यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा के दो और बॉक्‍सर विजेंदर सिंह के नक्‍शे कदम पर चल पड़े हैं। विजेंदर की ही तरह अखिल कुमार और जितेंद्र कुमार भी प्रो बॉक्सिंग रिंग में उतरने की तैयारी में हैं। इन्‍हें राज्‍य सरकार से भी इजाजत मिल गई है। खास बात यह कि तीनों बॉक्‍सर हरियाणा पुलिस में डीएसपी पद तैनात हैं।

हरियाणा सरकार की ओर से प्रभावी खेल नीति के दावों के उलट खिलाडि़यों का राज्‍य से मोह भंग होता जाता रहा है। आलम यह है कि एक साल के भीतर राज्‍य के तीन नामचीन खिलाड़ी सूबे से बाहर चले गए हैं। सरकारी अमला भौंहें तरेरने के अलावा कुछ खास नहीं कर पा रहा है। दिलचस्‍प बात यह है कि खिलाडि़यों के इस रवैये से राज्‍य सरकार चिंतित है, लेकिन कुछ कर नहीं पा रही है। सरकार बीते एक साल से खेल नीति में संशोधन के मसले को लेकर उलझन में है।

akhil-kumar

अखिल कुमार

मौका परस्‍त खिलाड़ी

शुरू में खिलाड़ी स्थापित होने के लिए राज्‍य सरकार की नीतियों का सहारा लेते हैं। वह राज्‍य सरकार से नौकरी भ्‍ाी हासिल करने में सफल हो जाते हैं, लेकिन पद और प्रतिष्‍ठा हासिल करने के बाद वे राज्‍य से मुंह मोड़ लेते हैं। प्रदेश के लिए खेलों में योगदान देने की बजाए वे पेशेवर खेलों का रुख कर लेते हैं। बीते साल बाॅक्सर विजेंदर सरकार के साथ कई तरह के विवादों में उलझने के बाद गृह विभाग से छुट्टी हासिल करने में कामयाब हुए थे।

अधिकारियों की आशंका दरकिनार

हालां‍कि विजेंदर को छुट्टी देते समय अधिकारियों ने आशंका जताई थी कि ऐसा करने पर अन्‍य खिलाड़ी भी छुट्टी के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं। लेकिन इस पर ध्‍यान नहीं दिया गया। अफसरशाही की यह आशंका अब सही साबित हो रही है। विजेंदर के बाद अखिल और जितेंद्र ने भी राज्‍य सरकार से प्रो.बाक्सिंग में खेलने की इजाजत ले ली।

खेल मंत्री की चुप्‍पी

विजेंदर की छुट्टी का विरोध करने वाले राज्‍य के खेल मंत्री अनिल विज ने भी चुप्‍पी साध ली है। सूत्रों के मुताबिक, विजेंदर जब छुट्टी लेकर प्रो बॉक्सिंग का रुख कर रहे थे तब विज ने सरकार को खेल नीति में बदलाव के लिए कुछ सुझाव दिए थे। लेकिन ये सुझाव फिलहाल ठंडे बस्‍ते में हैं।

साक्षी भी जाएंगी!
इस साल रियो ओलंपिक में देश को पदक दिलाने वाली पहलवान साक्षी मलिक जल्द ही परिणय सूत्र में बंधने जा रही हैं। शादी के बाद खेलों में नियमित भाग लिए जाने के मुद्दे पर वह अभी तक चुप हैं। ऐसे में हरियाणा की एक मजबूत खिलाड़ी के भविष्य पर भी सवाल उठ रहे हैं।
Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in