छत्तीसगढ़ में पुलिसवालों ने 16 महिलाओं
छत्तीसगढ़ में पुलिसवालों ने 16 महिलाओं

छत्तीसगढ़ में पुलिसवालों ने 16 महिलाओं का रेप और यौन उत्‍पीड़न किया

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली। छत्‍तीसगढ़ के पुलिसकर्मियों पर 16 महिलाओं के साथ रेप, उनका यौन एवं शारीरिक उत्‍पीड़न का आरोप है। इनमें आठ से रेप, छह का यौन उत्‍पीड़न और दो का शारीरिक उत्‍पीड़न हुआ है। राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने शुरुआती जांच में पाया है कि इन महिलाओं के साथ ज्‍यादती हुई है। साथ ही, ऐसे 20 और मामले सामने आए हैं। हालांकि अभी पीडि़तों के बयान बयान लिए जाने हैं।

आयोग ने शनिवार को राज्‍य सरकार को इस बाबत कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए पूछा है कि वह पीडि़तों के लिए 37 लाख रुपये की आंतरिक राहत की अनुशंसा क्‍यों नहीं कर रही है। आंतरिक राहत के तहत प्रत्‍येक रेप पीडि़त को तीन लाख, यौन उत्‍पीड़न की शिकार महिलाओं को दो-दो लाख और शारीरिक उत्‍पीड़न पर प्रत्‍येक को 50 हजार रुपये दिए जाने हैं।

तीन प्राथमिकी में 34 पीडि़तों के नाम, 14 ने ही दिए बयान

शुरुआती जांच में आयोग ने पाया कि राज्‍य में बड़ पैमाने पर मानवाधिकारों का उल्‍लंघन हो रहा है। आयोग के मुताबिक, तीन FIR में कुल 34 पीडि़तों का जिक्र किया गया है। FIR क्रमश: 22/2015, 2/2016 एवं 3/2016 को दर्ज किए गए। लेकिन मजिस्‍ट्रेट ने सिर्फ 15 पीडि़तों के बयान दर्ज किए, जबकि 19 मामलों में राज्‍य के अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक (CID) से बयान लेने और उसे मजिस्‍ट्रेट के समक्ष दर्ज कराने के निर्देश दिए थे। आयोग की टीम ने इस संबंध में सुरक्षा‍कर्मियाें, पीडि़तों सहित कई लोगों से पूछताछ की। लेकिन टीम FIR में दर्ज 34 में से सिर्फ 14 महिलाओं के बयान ही रिकॉर्ड कर सकी।

पीडि़त महिलाएं आदिवासी 

आयोग ने कहा कि लगभग सभी पीडि़त महिलाएं आदिवासी हैं। लेकिन एक भी मामला अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति रोकथाम अधिनियम कानून के तहत दर्ज नहीं किया गया है। इसके कारण SC/ST (POA) Act के तहत पीडि़तों को आर्थिक सहायता नहीं मिली। इसलिए आयोग ने राज्‍य के मुख्‍य सचिव से पीडि़तों के लिए आर्थिक सहायता सुनिश्चित करने को कहा है। साथ ही कहा कि जितनी जल्‍दी हो सके उन्‍हें यह मदद दी जाए।

रिपोर्ट पर लिया संज्ञान

मानवाधिकार आयोग ने एक अंग्रेजी अखबार में 2 नवंबर 2015 को प्रकाशित एक रिपोर्ट पर स्‍वत: संज्ञान लिया है। इस रिपोर्ट में कहा गया था कि छत्‍तीसगढ़ में बीजापुर के पांच गांवों पेग्‍डापल्‍ली, चिन्‍नगेलुर, पेड्डागेलुर, गुंडम और बर्गीचेरु में राज्‍य के पुलिसकर्मियों ने 40 से अधिक महिलाओं का यौन और शारीरिक उत्‍पीड़न किया तथा कम से कम दो के साथ गैंगरेप किया। इसके अलावा पुलिसकर्मियों ने ग्रामीणों के सामान भी तहस-नहस कर दिए थे।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in