डीडीए ने दिव्‍यांग अफसर को नियुक्ति
डीडीए ने दिव्‍यांग अफसर को नियुक्ति

डीडीए ने दिव्‍यांग अफसर को नियुक्ति के एक घंटे बाद हटाया

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स, नई दिल्ली। दिल्‍ली विकास प्राधिकरण (DDA) ने एक दिव्‍यांग अधिकारी को नियुक्‍त के एक घंटे बाद ही हटा दिया। अधिकारी को विकलांग बताते हुए उन्‍हें वापस उनके मूल विभाग में भेज दिया गया। हालांकि इस आशय का प्रत्र उन्‍हें एक दिन बाद दिया गया।

डॉ. ऋषिराज भाटी दिल्‍ली सरकार के विभिन्‍न विभागों में 26 साल से सेवाएं दे रहे हैं। फिलहाल भाटी दिल्‍ली ट्रांस्‍को लिमिटेड (DTL) के जनसंपर्क विभाग में 16 वर्ष से काम कर रहे थे। हाल ही में उनकी नियुक्ति DDA में जनसंपर्क निदेशक के पद पर हुई। बकौल भाटी 10 जनवरी को कार्यभार संभालने के लगभग एक घंटे बाद ही यह कहते हुए उन्‍हें पद से हटा दिया गया कि वह विकलांग हैं।

डीडीए ने दिल्ली ट्रांसको को इस बाबत पत्र लिखकर सूचित किया है। इसमें कहा गया है कि डीडीए में जनसंपर्क निदेशक का पद फील्‍ड वर्क वाला होता है। अधिकारी को ज्‍यादातर डीडीए की विभिन्‍न साइट्स जैसे डीडीए पार्क, तोड़फोड़ वाली साइट, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, बायो डायवर्सिटी पार्क आदि में तैनात रहना पड़ता है। इसमें शारीरिक काम भी होता है। लिहाजा ऋषिराज भाटी को इससे परेशानी होगी जो डीडीए के हित में भी नहीं होगा। इसलिए भाटी को तत्‍काल प्रभाव से उनके पुराने विभाग दिल्‍ली ट्रांस्‍को में वापस भेजा जा रहा है।

letter

डीडीए ने दिल्‍ली ट्रांस्‍को को यह पत्र भेजा है।

भाटी ने कहा कि तमाम पात्रता मानकों को पूरा करने के बाद ही उन्‍हें इस पद के लिए चुना गया था। अगर विकलांग उम्‍मीदवार को नहीं रखना था तो डीडीए को अपने विज्ञापन में लिखना चाहिए था कि ऐसे लोग आवेदन न करें। बता दें कि डॉ.ऋषिराज भाटी पोलियो के शिकार हैं।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in