GST: खाने पीने के और जरुरी सामान होंगे
GST: खाने पीने के और जरुरी सामान होंगे

GST: खाने पीने के और जरुरी सामान होंगे सस्ते

0

गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (GST) से जुड़ा सबसे बड़ा एलान गुरुवार को हो गया। श्रीनगर में चल रही जीएसटी काउंसिल की मीटिंग में आइटम्स के टैक्स रेट तय कर दिए गए। 1205 आइटम्स की लिस्ट पर सरकार का दावा है कि ज्यादातर सामान या तो सस्ते होंगे या उनकी कीमत जस की तस बनी रहेगी।

जीएसटी के लिए 5, 12, 18 और 28% की चार रेट स्लैब का प्रपोजल था। मीटिंग में 81% आइटम्स पर 18% से कम के स्लैब में रखा गया है। इसको केंद्र और राज्‍यों के 17 से ज्‍यादा इनडायरेक्‍ट टैक्‍स के बदले में लागू किया जाएगा। ये ऐसा टैक्‍स है, जो देशभर में किसी भी गुड्स या सर्विसेज की मैन्‍युफैक्‍चरिंग, बिक्री और इस्‍तेमाल पर लागू होगा। संसद इसका बिल पास कर चुकी है। 10 राज्य स्टेट GST पास कर चुके हैं। 1 जुलाई से GST देशभर में लागू होना है। अभी एक ही चीज के लिए दो राज्यों में अलग-अलग कीमत चुकानी पड़ती है। GST लागू होने पर सभी राज्यों में लगभग सभी गुड्स एक ही कीमत पर मिलेंगे। GST को केंद्र और राज्‍यों के 17 से ज्‍यादा इनडायरेक्‍ट टैक्‍स के बदले में लागू किया जा रहा है।

इससे एक्‍साइज ड्यूटी, सेंट्रल सेल्स टैक्स (सीएसटी), स्टेट के सेल्स टैक्स यानी वैट, एंट्री टैक्स, लॉटरी टैक्स, स्टैंप ड्यूटी, टेलिकॉम लाइसेंस फीस, टर्नओवर टैक्स, बिजली के इस्तेमाल या बिक्री और गुड्स के ट्रांसपोर्टेशन पर लगने वाले टैक्स खत्म हो जाएंगे।

टैक्स पर टैक्स के हालात खत्म होने से कंज्यूमर को फायदा होगा। अभी सामान पर कुल मिलाकर 31% तक टैक्स लगता है। यह कम हुआ तो इम्प्लॉयमेंट बढ़ेगी।

  1. छोटी डीजल कारों पर 28 फीसदी जीएसटी +3 फीसदी की दर से सेस यानी कुल 32 फीसदी, ये मौजूदा दर के बराबर है। लग्जरी कर – 28 फीसदी की दर से जीएसटी+15 फीसदी की दर से सेस यानी 43 फीसदी, ये मौजूदा दर के बराबर है।
    कंज्यूमर ड्युरेबल्स – 28 फीसदी की दर से जीएसटी लगेगा, अभी 30-32 फीसदी है।
  2. छोटी पेट्रोल कार – 28 फीसदी जीएसटी+1 फीसदी की दर से सेस यानी कुल 29 फीसदी, अभी 30-31 फीसदी की दर से टैक्स लगता है।
  3. दूध पर जीएसटी नहीं लगेगा।
  4. चीनी, चाय की पत्ती, कॉफी, खाने के तेल पर 5 फीसदी जीएसटी का प्रस्ताव है।
  5. कोयले पर 11.69 फीसदी की जगह 5 फीसदी की जीएसटी दर तय की गयी है, इससे बिजली की दर कम हो सकती है।
  6. मिठाई पर 5 फीसदी की दर से जीएसटी लगेगा, ये पहले से कम है।
  7. अनाज पर टैक्स में छूट दी गयी है।
  8. गुड़ पर टैक्स में छूट दी गयी है।
  9. बालों में लगाने वाला तेल, टूथपेस्ट, साबुन – 28 फीसदी की जगह 18 फीसदी की दर से जीएसटी लगेगा।
  10. बाकी 19 फीसदी पर जीएसटी की दर 28 फीसदी की दर से टैक्स लेगी।
  11. 81 फीसदी सामान पर टैक्स की दर 18 फीसदी या उससे कम होगी।
  12. बटर मिल्क, दही, शहद, फल एवं सब्जियां, फ्रेश मीट, फिश चिकन, अंडा, दूध, आटा, बेसन, ब्रेड, प्रसाद, नमक, बिंदी, सिंदूर, स्टांप. न्यायिक दस्तावेज, प्रिंटेड बुक्स, अखबार, चूड़िया और हैंडलूम जैसे रोजमर्रा के सामान जीएसटी से बाहर रखे गए हैं।
  13. सॉस, फ्रूट जूस, भुजिया, नमकीन, आयुर्वेदिक दवाएं, फ्रोजन मीट प्रॉडक्ट्स, बटर, पैकेज्ड ड्राई फ्रूट्स, ऐनिमल फैट, टूथ पाउडर, अगरबत्ती, कलर बुक्स, पिक्चर बुक्स, छाता, सिलाई मशीन और सेल फोन जैसी जरूरी आइटम्स को 12 पर्सेंट के स्लैब में रखा गया है।
  14. जैम, सॉस, सूप, आइसक्रीम, इंस्टैंट फूड मिक्सेज, मिनरल वॉटर, फ्लेवर्ड रिफाइंड शुगर, पास्ता, कॉर्नफ्लेक्स, पेस्ट्रीज और केक, प्रिजर्व्ड वेजिटेबल्स, टिशू, लिफाफे, नोट बुक्स, स्टील प्रॉडक्ट्स, प्रिंटेड सर्किट्स, कैमरा, स्पीकर और मॉनिटर्स पर 18 फीसदी टैक्स लगाए जाने का निर्णय किया गया है।
  15. पेंट, डीओडरन्ट, शेविंग क्रीम, हेयर शैम्पू, डाइ, सनस्क्रीन, वॉलपेपर, सेरेमिक टाइल्स, च्युइंगम, गुड़, कोकोआ रहित चॉकलेट, पान मसाला, वातित जल, वॉटर हीटर, डिशवॉशर, सिलाई मशीन, वॉशिंग मशीन, एटीएम, वेंडिंग मशीन, वैक्यूम क्लीनर, शेवर्स, हेयर क्लिपर्स, ऑटोमोबाइल्स, मोटरसाइकल, निजी इस्तेमाल के लिए एयरक्राफ्ट और नौकाविहार को लग्जरी मानते हुए सबसे अधिक टैक्स लेने का फैसला किया गया है।
Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in