बैंक कर्मचारियों को दुआएं दीजिये
बैंक कर्मचारियों को दुआएं दीजिये

बैंक कर्मचारियों को दुआएं दीजिये

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स

नोटबंदी में मीडिया ने एक वर्ग की कवरेज को पूरी तरह से इग्नोर किया, वह बैंक कर्मी। मेरा अनुभव बैंक कर्मियों के साथ बहुत ही शानदार रहा। मजे की बात तो यह है कि यह अनुभव करने के लिए मैं एक पत्रकार के तौर पर बैंक में नहीं गया, बल्कि साधारण कस्टमर की माफिक बैंक कर्मियों से मिला।

मैं यस बैंक गया। वहां कुछ भीड़ थी। शनिवार था, लिहाजा बुजुर्गों के नोट बदले जा रहे थे। मैंने कहा- ऐसा क्यों? तब मैनेजर ने मुझे अपने पास बुलाया। सारी स्थिति समझाई। इससे पहले उन्हेांने मुझे कोक आॅफर किया, लेकिन मैंने मना कर दिया। उन्होंने तुरंत चाय के लिए पूछा। मैंने कहा- नहीं कोक ही पी लेते हैं। मैंने एक छोटे गिलास में कोक लिया और कुछ चिप्स खाए। मैनेजर यंग था। इस बैंक में लाइन में खड़े हर किसी को कोक पानी और चिप्स आॅफर किए जा रहे थे। मैंने मनेजर से इसका रहस्य पूछा। तब उन्होंने बताया कि लोगों को दिक्कत तो हैं, लेकिन उन्हें थोड़ा आॅनर फील हो, इसलिए।

बातचीत के दौरान मनेजर ने बताया कि उनकी एक बैंक कर्मी के बेटे को डेंगू है। वह अस्पताल में है। लेकिन कर्मचारी तीन दिन से बेटे को देखने नहीं जा पाई, क्योंकि हम सुबह जल्दी बैंक आ जाते है और देर शाम वापस जा रहे हैं।

ढाई हजार मैं दे दूंगा

इसके बाद मैं चंडीगढ़ के सेक्‍टर-17 स्थित स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया में गया। यहां भी एटीम पर भीड़। बैंक के अंदर जा रहा था तो गार्ड ने रोका। मैंने कहा- मैनेजर से मिलना है। उसने पूछा- क्यों? मैंने कहा- मुझे बात करनी है। तब तक मैनेजर बाहर से अंदर आ रहा था। उसने कहा- इन्हें आने दो। मैं मैनेजर के केबिन में उसके साथ चला गया। मैंने पूछा- इतनी लंबी लाइन है। मैं लाइन में लगूं और मेरी बारी तक पैसे खत्म हो गए तो क्या होगा? उसने कहा- कोई बात नहीं आप लाइन में लग जाएं। एटीएम में पैसे खत्म नहीं होंगे। मैंने कहा- फिर भी खत्म हो गए तो क्या होगा? तब मैंनेजर ने कहा- आप मुझसे ढाई हजार रूपए ले जाना। मैं हैरान। एेसा क्यों? जाने को हुआ तो मैनेजर ने एक महिला कर्मी से मिलवाया। वह गर्भवती थी। मैनेजर ने बताया कि मैडम छुट्टी पर थीं, लेकिन काम की वजह से खुद छुट्‌टी रद्द करा कर काम पर आ गईं। इसके बाद मै और भी बैंकों में गया। कमोबेश सभी जगह अनुभव अच्‍छा ही रहा।

(साभार: मनोज ठाकुर के फेसबुक वॉल से)

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in