इतिहास मुझे सही साबित करेगा: फिदेल
इतिहास मुझे सही साबित करेगा: फिदेल

इतिहास मुझे सही साबित करेगा: फिदेल कास्‍त्रो

0

नुक्‍क्‍ड़ टाइम्‍स, नई दिल्‍ली। फिदेल कास्‍त्रो ने गरीबी को काफी करीब से देखा था। वह मजदूरों के बीच ही पले पढ़े। यही वजह थी कि अमीर और गरीब के बीच पनपती असमानता को सीधे तौर पर देख सके। छात्र जीवन में राजनीति के दौरान सरकार विरोधी तेवर के कारण जल्‍द ही वह सबकी नजरों में आ गए। उनके सरकार विरोधी भाषणों का असर इतना था कि लोग उनकी तरफ खिंचते चले गए।

13 अगस्त, 1926 को जन्मे कास्त्रो का मन 1950 के दशक में अपने कॉमरेडों पर सरकार के अत्‍याचारों से उनका मन लोकतांत्रिक व्‍यवस्‍था से उचट गया। तब उन्‍होंने हथियार के दम पर क्रांति लाने का रास्‍ता चुना। उन्‍होंने अमेरिका समर्थित फुल्गेंकियो बतिस्ता सरकार के खिलाफ विद्रोह किया, लेकिन नाकाम रहे और 1953 में कैद कर लिए गए। जेल जाने के दौरान उन्होंने प्रसिद्ध भाषण दिया था जिसका शीर्षक था – History will absolve me- ‘इतिहास मुझे सही साबित करेगा’ जिसने क्यूबा की जनता पर अमिट छाप छोड़ी।

49 साल शासन किया

1955 में उन्‍हें मानवीय आधार पर रिहा कर दिया गया। इसके बाद 1956 में उन्होंने फिर क्यूबा क्रांति का शंखनाद किया और तमाम उठापटक के बाद 1959 में क्यूबा के तानाशाह बतिस्‍ता का तख्तापलट दिया। बतिस्ता की सरकार को उखाड़ फेंकने के बाद कास्त्रो ने 49 साल तक क्यूबा में शासन किया। वह फरवरी 1959 से दिसंबर 1976 तक क्यूबा के प्रधानमंत्री और फरवरी 2008 तक राष्ट्रपति रहे।

सिगार के शौकीन

फौजियों जैसा लिबास, बेतरतीब दाढ़ी और सिगार पीने के शौकीन कास्‍त्रो ने क्‍यूबा में असहमति के सुर को कभी पनपने नहीं दिया। हालांकि उन पर अपने शासन के दौरान हत्या की साजिश के आरोप भी लगे। लेकिन उन्‍होंने अमेरिकी शह पर आक्रमण के प्रयासों और कड़े अमेरिकी आर्थिक प्रतिबंध सहित दुश्‍मनों के तमाम प्रयासों को नाकाम किया। कास्त्रो अपने माता-पिता की नाजायज़ संतान थे। उनके पिता एक रईस व्यापारी थे, जबकि मां नौकरानी थीं। फिदेल कास्त्रो ने दो शादियां की थी, जिनसे उनके 8 बच्चे हैं।

सीआईए ने 600 से अधिक बार मारने की कोशिश की

कास्त्रो ने दावा किया था कि अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA ने 600 से ज्यादा बार उन्‍हें मारने की योजना बनाई। लेकिन वह हर बार नाकाम रही। कास्त्रो ने सीआईए के इन हमलों के लिए एक बार यह भी कह दिया था कि ‘अगर हमलों से बचने का कोई ओलिंपिक इवेंट होता तो मुझे उसमें गोल्ड मेडल मिलता।’ अंग्रेज़ी अखबार गार्डियन में प्रकाशित एक लेख में कहा गया था कि CIA ने क्यूबा के तानाशाह को ठिकाने लगाने के लिए जो तरीके आज़माए उससे जेम्स बॉन्ड भी शरमा जाए। कास्‍त्रो को सिगार पीने का शौक था। सीआईए ने उसमें भी जहर मिलाया। उन्‍हें जहर की गोलियां दी गईं।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in