लापता चंद्रयान-1 को नासा ने खोज लिया
लापता चंद्रयान-1 को नासा ने खोज लिया

लापता चंद्रयान-1 को नासा ने खोज लिया

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स। भारत का पहला मानवरहित चंद्रयान-1 लापता नहीं हुआ है। यह अब भी अपनी कक्षा में चांद का चक्‍कर लगा रहा है। इसे दो साल के लिए मिशन पर भेजा गया था, लेकिन प्रक्षेपण के एक साल बाद ही भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का इससे संपर्क टूट गया था। तब से माना जा रहा था कि यह लापता हो गया है।

इसरो चंद्र अभियान के तहत अक्‍तूबर 2008 में मानवरहित चंद्रयान-1 का प्रक्षेपण किया था। लेकिन इसे लॉन्‍च करने के एक साल बाद 29 अगस्‍त, 2009 में ही वैज्ञानिकों का इसके साथ संपर्क टूट गया। तब से यह लापता था। नासा ने आठ साल बाद ग्राउंड राडार तकनीक से इसका पता लगा लिया है। कैलीफोर्निया स्थित नासा के Jet Propulsion Laboratory (JPL) के वैज्ञानिकों के मुताबिक अंतरिक्षयान चंद्रमा की सतह से लगभग 200 किलोमीटर ऊपर चक्कर लगा रहा है। इसके साथ ही, नासा ने अपने अंतरिक्षयान Lunar Reconnaissance Orbiter (LRO) को भी खोज लिया है।

आसान नहीं था पता लगाना 

नासा के वैज्ञानिक का कहना है कि चंद्रयान-1 के मुकाबले LRO का पता लगाना आसान था, क्‍योंकि यह सक्रिय था। यह जहां था हम उस कक्षा के आंकड़े जुटाकर अभियान पर काम कर रहे थे। लेकिन चंद्रयान-1 का पता लगाना मुश्किल था, क्‍योंकि करीब एक दशक से इससे संपर्क टूटा हुआ और दूसरा यह काफी छोटा भी था। करीब पांच फीट यानी डेढ़ मीटर वाले घनाकार अंतरिक्षयान को खोजना उपलब्धि से कम नहीं है। इसरो ने कहा कि चंद्रयान-1 ने कई किलोमीटर तक चंद्रमा के चारों ओर 3400 से अधिक कक्षाएं बनाई थी और इसके साथ संपर्क टूटने के बाद अभियान समाप्‍त हो गया था। बता दें कि लगभग 3.9 अरब रुपये की लागत से तैयार चंद्रयान-1 का मकसद चांद की सतह का परीक्षण कर वहां खनिज संपदा का पता लगाना था।

ऐसे खोजा

नासा के वैज्ञानिकों ने जिस राडार से चंद्रयान-1 को खोजा, उसका इस्‍तेमाल दूर स्थि‍त क्षुद्रग्रहों का पता लगाने में किया जाता है। हालांकि वैज्ञानिकों को विश्‍वास नहीं था कि वह चंद्रयान-1 को खोज सकेंगे, क्‍योंकि वह लगभग उतनी ही दूरी पर था जितनी दूरी पर चांद है। इसके अलावा, एक और मुश्किल थी। वह यह कि चांद पर कुछ ऐसी जगहें हैं जहां का गुरुत्‍वीय आकर्षण बहुत अधिक है जो अंतरिक्षयान को उसकी कक्षा से अलग कर सकते हैं।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in