ममता और राहुल का पीएम पर हमला
ममता और राहुल का पीएम पर हमला

ममता और राहुल का पीएम पर हमला

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली। नोटबंदी के खिलाफ मंगलवार को विपक्षी दलों के संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेंस में चार प्रमुख दल नदारद रहे। इसमें कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी के साथ तृणमूल कांग्रेस, राजद, द्रमुक, आईयूएमएल, एआईयूडीएफ, जेडीएस, जेएमएम के नेता मौजूद थे। राहुल गांधी और पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी का रुख हमलावर रहा और उनके निशाने पर प्रधानमंत्री रहे। नोटबंदी मसले पर संसद के कांग्रेस का साथ देने वाले वामदल, जदयू, एनसीपी, सपा और बसपा नेता संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेंस में शामिल नहीं हुए।

हालात नहीं सुधरे तो पीएम इस्‍तीफा देंगे?: ममता

दिल्‍ली के कांस्‍टीट्यूशन क्‍लब में नोटबंदी को आजादी के बाद देश का सबसे बड़ा घोटाला बताते हुए ममता ने कहा, अगर 30 दिसंबर के बाद हालात नहीं सुधरे तो क्‍या पीएम मोदी इस्तीफा देंगे? नोटबंदी का फैसला अवैध और असंविधानिक है। इसने देश को 20 साल पीछे धकेल दिया है। उन्‍होंने कहा, पीएम मोदी ने 50 दिनों की मोहलत मांगी थी। लोग रोजगार खो रहे हैं। मोदी जी ने कहा था कि अच्छे दिन आएंगे। क्या ये अच्छे दिन का नमूना है? कैशलेस के नाम पर मोदी सरकार बेसलेस हो गया, टोटल फेस लेस हो गया। 47 दिन बीत गए हैं। हम तीन दिन और इंतजार करेंगे। .

पीएम पर लगाए आरोप पर राहुल कायम

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री पर लगे भ्रष्‍टाचार के आरोंपों को दोहराते हुए कहा, उन्हें अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफाई देनी चाहिए। प्रधानमंत्री को जवाब देना होगा कि नोटबंदी को लागू करने के पीछे उनका असली मकसद क्या था। यह दुनिया के इतिहास में अचानक किया गया सबसे बड़ा आर्थिक प्रयोग है जो चीन में माओ के शासन के दौरान भी नहीं देखा गया। 50 दिनों में हालात सामान्य नहीं होने वाले हैं। स्थिति ठीक होने में छह से सात महीने लग जाएंगे। इसके लिए कौन जिम्मेदार होगा। उन्‍होंने कहा, मोदीजी सभी बातों पर बोलते हैं, लेकिन जिस मामले में उनकी ईमानदारी पर सवाल उठ रहे हैं, उस पर वे चुप हैं। भ्रष्‍टाचार के खिलाफ लड़ाई में किसी को छूट क्यों मिले?

राहुल अपरिपक्‍व हैं: प्रसाद

भाजपा ने विपक्ष के साझा प्रेस कांफ्रेंस को प्‍लॉप करार देते हुए राहुल पर पलटवार किया। भाजपा नेता एवं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल विपक्ष की एकता बरकरार रखने में विफल रहे। राहुल जो आरोप लगा रहे हैं, उसमें परिपक्‍वता की कमी झलकती है। वे प्रधानमंत्री का इस्‍तीफा मांग रहे हैं, जबकि पूरा देश मोदी जी के साथ है। उन्होंने कहा, नोटबंदी पूरे देश को देश को ईमानदर बनाने को प्रयास है। यह तो स्‍पष्‍ट है कि मोदी के हमले से कौन मुश्किल में है।

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in