पाकिस्‍तानी चैनल का दावा, डोवाल ने
पाकिस्‍तानी चैनल का दावा, डोवाल ने

पाकिस्‍तानी चैनल का दावा, डोवाल ने कराई ओमपुरी की हत्‍या

0

नुक्‍कड़ टाइम्‍स ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली। बॉलीवुड के दिग्‍गज अभिनेता ओमपुरी की मौत को लेकर पाकिस्‍तान के सबसे बड़े न्‍यूज चैनल बोल ने एक सनसनीखेज दावा किया है। इस चैनल ने एक ख़बर ब्रेक की है जिसमें दावा किया गया है कि ओमपुरी की हत्‍या हुई है। साथ ही, इस चैनल ने भारतीय मीडिया की भी जमकर खिल्‍ली उड़ाई है। यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

चैनल पर ‘ऐसे नहीं चलेगा’ शीर्षक से आधे घंटे की रिपोर्ट में एंकर आमिर लियाक़त हुसैन ने ओमपुरी की मौत पर कई सवाल उठाए हैं। चैनल ने ओमपुरी के बेटे का हवाला देते हुए बताया कि उनकी गर्दन और सिर पर चोट के कुछ निशान थे। उनकी गर्दन पर गहरे नील पड़े हुए थे।

चैनल ने और भी कई गंभीर आरोप लगाए हैं। पूरी खबर के लिए देखें-

चैनल का कहना है कि आनन-फानन में ओमपुरी के शव का पोस्‍टमार्टम पहले ही कर दिया गया। लेकिन यह भारत एक बड़े कलाकार की मौत का मामला है, इसे पोस्‍टमार्टम के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता। चैनल ने दावा किया कि ओमपुरी का परिवार पोस्‍टमार्टम कराना चाहता था, क्‍योंकि उन्‍हें लगता है कि उनकी हत्‍या की गई है। लेकिन सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के खास लोगों ने ऐसा होने नहीं दिया।

चैनल ने दावा किया कि ओमपुरी को जबरन शराब पिलाया गया। उनके मुंह पर तकिया रख कर उनकी हत्‍या की गई। इस दौरान एक शख्‍स की चमड़ी भी उनके नाखून में आ गई।

बकौल चैनल दो लोगों ने ओमपुरी की हत्‍या की साजिश रची थी। इनके नाम राजेश और कलवीर सिंह हैं। दोनों ने किसी शकुंतला नाम की महिला के घर पर यह योजना बनाई थी। इसमें शिवसेना और आरएसएस की भी भूमिका रही। ओमपुरी की मौत से एक हफ्ता पहले डोभाल ने दिवंगत अभिनेता को दिल्‍ली बुलाया और मां की गालियां दीं। उनसे कहा गया कि तुम्हें उत्‍तर प्रदेश में शहीद नितिन यादव के गांव जाकर आंसू बहाने होंगे। तुम एक बहुत बड़े अभिनेता और तुम अच्‍छे से आंसू बहा सकते हो। तुम्‍हें शहीद के परिवार से माफी भी मांगनी होगी। वह बीएसएफ का जवान था और शहीदों के खिलाफ बयान देकर तुमने उनकी बेइज्जती की है। तुमने पाकिस्‍तान की तरफदारी की है, इसलिए तुम्‍हें जिंदा रहने का कोई हक नहीं है।

इसके बाद चैनल ने जोर देकर कहा कि अगर तुम चाहते हो कि तुम्हारी मौत सुकून से हो तो तुम्हें वहां जाना होगा। आगे का फैसला बाद में लिया जाएगा। दावा है कि ओमपुरी को एक चैनल निकलते समय अगवा कर ले जाया गया था। उन्‍हें एक दिन तक दिल्‍ली में रखा गया और नंगा भी किया गया था। इसके बाद से ही ओमपुरी बहुत दबाव में थे। चैनल ने डक्‍कन क्रॉनिकल की रिपोर्ट का भी जिक्र किया है।

चैनल ने बताया कि डोभाल की धमकी के बाद ओमपुरी शरीद नितिन यादव के इटावा स्थित नगलापुरी गांव गए। वहां उनके साथ दो लोग भेजे गए थे। इसके अलावा स्थानीय थाने में रॉ खास लोग उन पर नजर रखे हुए थे। उस समय ओमपुरी वही कपड़े पहने हुए थे जिसे पहन कर वह एक चैनल में इंटरव्‍यू देकर निकल रहे थे। शहीद के घर पर भी ओमपुरी को बहुत जलील किया गया। सबको पहले से ही मालूम थ्‍ाा कि वह क्‍यों आने वाले हैं। चैनल के मुताबिक ओमपुरी वहां नितिन यादव की शहादत पर नहीं रो रहे थे, बल्कि अपनी बेइज्‍जती पर रो रहे थे। आंसू बहाने के बाद ओमपुरी को माफी मांगने के लिए कहा गया। यह सब यादव परिवार के लिए आश्‍चर्यजनक था।

चैनल ने 8 जनवरी को और भी खुलासे किए हैं। पूरी खबर के लिए वीडियो देखें-

Share.

Leave A Reply

Powered by virtualconcept.in